Bulletins Of India

भरतपुर-परंपरागत मौसम पूर्वानुमान के मुताबिक पिछले कई सालों श्रेष्ठ बाद मानसून आने वाला है

संकलन : Pawan Kishor Sharma | प्रकाशन तिथि : 08-05-2021 18:30 | राजस्थान समाचारभरतपुर समाचार

 

भरतपुर।

विज्ञान के इस युग मे अभी भी परंपरागत तरीके से की जाने वाली कई तरह की भविष्यवाणी होती है सटीक जिन्हें नही किया जा सकता है नजरअंदाज।

मौसम को लेकर इसी तरह की एक परंपरागत भविष्यवाणी के अनुसार इस बार गोरैया दे रही 2 के बजाय 4 अंडे, नीम पर आ रहे हैं फूल; टिटहरी भी पहुंची ऊंचाई पर, ये सब अच्छे मानसून के बताए जाते है अच्छे संकेत।

परंपरागत मौसम पूर्वानुमान के मुताबिक पिछले कई सालों का श्रेष्ठ मानसून आने वाला है इस बार। लगातार आंधी के चलते, कुछ प्री मॉनसून साइक्लोनिक बारिश का भी है पूर्वानुमान।

पिछले दिनों में पश्चिमी विक्षोभ के चलते हुई बारिश से घास और छोटी झाड़ियों की हुई बढ़ोतरी से मरुस्थल के बायोमास और जैव विविधता में बढ़ोतरी होने का भी है अनुमान। इस बार हाउस स्पैरो (गोरैया) , बेब्लर, बुलबुल, तीतर, मोर, टिटहरी, गोयरा, कोबरा, घरेलू छिपकलियों, लंगुरो, चिंकारा, ब्लैकबक, नीलगाय, सूअर आदि कई प्रजातियों का भी प्रजनन सफल रहने का है पूर्वानुमान।

बुलेटिन्स ऑफ इंडिया पर अन्य अद्यतन