Bulletins Of India

भरतपुर जिले में प्रशासन से लेकर चिकित्सा विभाग तक की लापरवाही है चरम पर।

संकलन : Pawan Kishor Sharma | प्रकाशन तिथि : 09-05-2021 15:49 | राजस्थान समाचारभरतपुर समाचार

 

भरतपुर।

             कोरोना कोविड-19 संक्रमण को लेकर राजस्थान के भरतपुर जिले में प्रशासन से लेकर चिकित्सा विभाग तक की लापरवाही है चरम पर। ऐसा लगता है जैसे भरतपुर जिले में कोरोना की रोकथाम की जगह उसके संक्रमण को फैलाने का काम किया जा रहा हो। कस्बा बयाना के सीएचसी में कई दिन पहले कोरोना की वैक्सीन खत्म हो जाने के बाद शनिवार को जब पहली कोरोना वैक्सीन की खेप आई तो अस्पताल में भारी संख्या में वैक्सीनेशन करवाने के लिए भीड़ उमड़ पड़ी । लाइन में लगे लोगों में अपने नंबर के लिए जमकर हुई धक्का मुक्की। इस मौके पर न तो वहां कोई पुलिसकर्मी मौजूद था और न ही अस्पताल की तरफ से व्यवस्था संभालने के लिए कोई कर्मचारी। वैक्सीनेशन का समय सुबह 9 बजे का था लेकिन 9 बजकर 30 मिनट तक वैक्सीनेशन रूम का ताला तक नहीं खोला गया। इस दौरान वहां सैकड़ों की संख्या में वैक्सीनेशन करवाने वाले लोगों की भीड़ इकट्ठी हो गई। और जब वैक्सीनेशन रूम का ताला खुला तो वहां सिर्फ एक काउंटर पर ही वैक्सीन लगाई जा रही थी। लोगों में अपना नंबर पहले आने की होड़ मच गई। और लाइन में लगे लोगों में जमकर धक्का-मुक्की हुई जिससे कोरोना गाइडलाइंस की जमकर उड़ाई गईं धज्जियां।

बुलेटिन्स ऑफ इंडिया पर अन्य अद्यतन