Bulletins Of India

थाने में NSUI नेता की गुंडई

संकलन : Shiv Shankar Mishra | प्रकाशन तिथि : 08-06-2021 13:37

 

सिविल लाइन थाना परिसर में NSUI के अध्यक्ष ने सरेआम गुंडागर्दी की। अध्यक्ष ने अपने ही संगठन के पूर्व महासचिव को लात-घूसों से पीट डाला। पुलिस वालों ने बीचबचाव की कोशिश तो की, लेकिन सख्ती से रोकने का प्रयास नहीं किया। आरोपी अध्यक्ष पुलिस के सामने ही उसे पीटता रहा। वह पुलिस द्वारा किए जा रहे चालान का विरोध गांधीगीरी से करने थाने पहुंचा था। सिविल लाइंस पुलिस ने शिकायत पर NSUI अध्यक्ष समेत तीन के खिलाफ FIR दर्ज कर ली है। NSUI छात्र संगठन के जिलाध्यक्ष विजय रजक के साथ कभी कंधे से कंधा मिलाकर चलने वाला पूर्व महासचिव शुक्ला नगर मदनमहल निवासी अंशुल सिंह ठाकुर को वर्तमान में संगठन से निष्कासित कर दिया गया है। सोमवार को अंशुल को पकड़ कर विजय रजक, देवेंद्र काछी और सिविल लाइंस निवासी शुभांशु कन्नौजिया सिविल लाइंस थाने पहुंचे।

थाना परिसर में ही करने लगे मारपीट
तीनों आरोपी अंशुल ठाकुर को सिविल लाइंस थाना परिसर में ही लात-घूंसों से मारने-पीटने लगे। एक पुलिस वाला दौड़ा तो विजय रजक ने उसे डांट कर रोक दिया। शोर-शराब सुनकर अंदर बैठे और स्टाफ पहुंच गए। अंशुल को तीनों आरोपियों के कब्जे से छुड़ाकर अंदर ले गए। बाजवूद अध्यक्ष की सीनाजोरी कि वह भी पुलिस वालों के पीछे-पीछे अंदर तक चला गया। 

अंदर भी पुलिस वालों से NSUI अध्यक्ष ने की बहस
थाना परिसर में मारपीट करने वाला NSUI अध्यक्ष थाने के अंदर भी पुलिस वालों से बहस करता रहा। हालांकि सिविल लाइंस पुलिस ने पीड़ित अंशुल ठाकुर की शिकायत पर विजय रजक, देवेंद्र काछी और शुभांशु कन्नौजिया के खिलाफ मापीट, धमकी देने का प्रकरण दर्ज कर लिया है।

गांधीगीरी तरीके से गए थे चालान का विरोध करने
पीड़ित अंशुल ठाकुर ने सिविल लाइंस थाने में शिकायत में बताया कि दोपहर में भारतीय युवा कांग्रेस के शुभम बोहित की अगुवाई में वह कोरोना महामारी के दौरान महंगाई व आर्थिक तंगी से जूझ रहे लोगों का पुलिस द्वारा बनाए जा रहे चालान वाली कार्रवाई का विरोध करने पहुंचा था। उसने गांधीगीरी तरीके से पुलिस को फूल भेंट कर चालानी कार्रवाई रोकने संबंधी ज्ञापन सौंप रहा था, तभी विजय रजक और उसके साथी पहुंच गए और जिला महासचिव के पद से पूर्व में निष्कासित किए जाने की बात पर मारपीट करने लगे।

बुलेटिन्स ऑफ इंडिया पर अन्य अद्यतन