Bulletins Of India

अहमदाबाद के बोदकदेव वार्ड के अभ्यर्थियों ने फॉर्म में छिपाई जानकारी, हाईकोर्ट ने चुनाव आयोग को दिया कार्रवाई का आदेश

संकलन : Vyas Sachin | प्रकाशन तिथि : 09-06-2021 18:16 ▶ अहमदाबाद समाचार

 

सुनवाई : 

उच्च न्यायालय में एक शिकायत दर्ज की गई है जिसमें आरोप लगाया गया है कि बोदकदेव वार्ड के भाजपा और कांग्रेस उम्मीदवारों ने अहमदाबाद में स्थानीय निकाय चुनावों में चुनाव आयोग को दी गई जानकारी को छुपाया था। याचिकाकर्ता निर्दलीय प्रत्याशी ने हाईकोर्ट में उचित साक्ष्य पेश किया था। हाईकोर्ट ने चुनाव आयोग को आठ सप्ताह के भीतर उचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। इससे बोदकदेव वार्ड से निर्वाचित उम्मीदवारों की मुश्किल बढ़ सकती है।

हाईकोर्ट ने चुनाव आयोग को कार्रवाई का निर्देश दिया

इस बात को  एडवोकेट विवेक भामरे ने बताया कि बोडकदेव वार्ड सीट से 9 लोगों ने अपनी उम्मीदवारी दर्ज की थी, जिसमें से 4 बीजेपी से, 4 कांग्रेस से और 1 निर्दलीय उम्मीदवार निलेश भाई मिस्त्री को बाकी उम्मीदवार पर शक हुआ और उन्होंने उम्मीदवार द्वारा दी गई जानकारी की जांच की। जिसमें उन्हें अपनी अतिरिक्त आय और अन्य व्यवसायों के लिए पाया गया था, इसलिए उन्होंने चुनाव आयोग को उचित सबूत के साथ आवेदन किया लेकिन बिना कोई कार्रवाई किए उन्होंने अंततः उच्च न्यायालय में आवेदन किया। अदालत ने आज याचिका की सुनवाई के दौरान सभी सबूतों की जांच की और चुनाव आयोग को दलीलें सुनने के बाद 8 सप्ताह के भीतर कार्रवाई करने का आदेश दिया।

बोडकदेव वार्ड से भाजपा और कांग्रेस के उम्मीदवारों

  बोडकदेव में भाजपा में से दीप्ति अमरकोटिया, वसंती पटेल, देवांग दानी और भाजपा से कांति पटेल ने बोदक देव में अपनी उम्मीदवारी दर्ज की थी। कांग्रेस से निमेश शाह, विराम देसाई, चेतना शर्मा और जानकी पटेल ने नामांकन दाखिल किया। वहीं निर्दलीय में नीलेश मिस्त्री ने चुनाव लड़ा था। जिसमें भाजपा पैनल विजेता बनी। अब भाजपा और कांग्रेस उम्मीदवारों के लिए जानकारी छिपाने में दिक्कत हो सकती है।

बुलेटिन्स ऑफ इंडिया पर अन्य अद्यतन